ऑथर का कॉलेज का पहला दिन था प्रोफेसर ने सभी बच्चो को चैलेंज दिया की किसी अनजान व्यक्ति से जाकर परिचय करें.
वो कहते हैं मैं कैंपस में देखने गया की किस्से बात की जाये, पीछे से पीठ पर किसी ने tap किया. मैंने मुड़ के देखा तो एक wrinkled old lady थी. जिसकी smile bright sunshine जैसी थी.
मैं कुछ कहता उससे पहले उन्होंने कहा.. “Hi ! मैं rose हूँ, एक सत्यासी (87)  साल की लेडी. क्या मैं तुमको एक हुग कर सकती हूँ?”
मैं ज़ोर से हँसा और ख़ुशी से कहा “बिलकुल” !
मैंने चुटकी लेते हुए कहा की “इतने young age में आप कॉलेज में कैसे?”
उन्होंने भी उसी भाव में जवाब दिया.. “मुझे एक handsome और rich husband ढूंढना है
I want to get married and have couple of kids”
मैं सच में उत्सुक था जानने को की क्या कारन है जो इस उम्र में ये यहाँ हैं.
तो मैंने फिर पूछा .. क्या कारण है please बताएं
Rose ने कहा “मैं हमेशा से एक अच्छे कॉलेज में पढ़ना चाहती थी अब मौका मिला है”
उस दिन हमने और कई बातें की साथ बैठ के नाश्ता किया और अच्छे दोस्त बन गए, उस दिन के बाद लगभग हर दिन हम मिला करते बातें किया करते.. वो एक ‘टाइम मशीन’ के तरह थी जो हमेशा अपने wisdom और experience सुना के मुझे चौकाया करती थी.
कुछ ही महीनो में Rose एक college icon बन गयी थी और लोग उनसे बड़े आसानी से घुल मिल जाया करते थे.
सेमेस्टर खत्म होने पर हम सब ने मिल कर उन्हें स्पीच देने के लिए बुलाया.
Rose stage पर आयी और mic के सामने आते ही उनके पांच में से तीन card जो वो शायद स्पीच के लिए लायी थी वो गिर गए.
थोड़ा embarrass हुई फिर card उठा कर बोली “आज मैं ज़रा अस्थिर सी हूँ, मैंने फ्री की बियर accept की नहीं और ये whiskey मुझे nervous कर रही है. लिखा हुआ जाने दो भाड़ में मैं वो बताती हूँ जो मुझे पता है.”
इस तरह से उनके sense of humor से माहौल हल्का होगया सभी हॅसने लगे और इसी बीच Rose ने अपना गाला साफ किया और स्पीच शुरू किया ..
“आपके पास आपका dream होना ज़रूरी है, जिस दिन आपके दिल में कुछ पाने की चाह खत्म हो जाएगी अब खत्म हो जायेंगे .. There is a huge difference between growing older and growing up. अगर आप 19 के हैं और पूरे साल एक जगह पड़े रहे तो अगले साल 20 के हो जायेंगे.. Anybody can grow ओल्डर (उम्र तो हर किसी की बढ़ती है) उसके लिए कोई talent की ज़रूरत नहीं है .. बात तो है आगे बढ़ने में.
बूढ़े लोग अक्सर regret इस बात का नहीं करते की उनने क्या किया वे इस बात का ज्यादा पछतावा करते हैं की क्या नहीं किया ज़िंदगी में या क्या miss कर दिया जो वो अब इस उम्र में नहीं कर सकते.

author concludes saying..

REMEMBER, GROWING OLDER IS MANDATORY. GROWING UP IS
OPTIONAL.

Ps: This story is taken from internet and is published here to motivate youth.