क्या आप जानते हैं कि साधारण दूध पिलाने की बोतल आपके शिशु के लिए हानिकारक हो सकती है ?

1) रिसर्च में यह पाया गया है कि ज्यादा कर दूध पिलाने की बोतलों में बिसफ़ेनोल ए का उच्च स्तर होता है जो व्यवहार संबंधी समस्याओं, असामान्य हार्मोन स्तरों और कैंसर होने के उच्च जोखिम को बढ़ावा दे सकता है |
2) आमतौर पर यह प्लास्टिक में पाया जाता है। यह एक ऐसा केमिकल होता है जिसे प्लास्टिक को सख्त बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है |
3) बोतल को उबालते समय, धोते समय, या ब्रश रगडते समय यह केमिकल छूटने लगता है जो गंभीर स्वास्थ्य समस्या पैदा कर सकता है|
4) हमेशा सुनिश्चित करें कि आपके शिशु की दूध पिलाने की बोतल या दूध का बर्तन बिसफ़ेनोल ए से मुक्त हो और आपके शिशु के लिए सुरक्षित हो|
5) चाहे आपने ढंग से बोतल को स्टेरेलाइज किया हो तब भी बोतल से बच्चे को इन्फेक्शन होने का खतरा बना रहता है। जैसे- डायरिया और सांस से जुड़े इन्फेक्शन आदि।
6) इसलिए बीपीए मुक्त बोतल, जो कि जहरीले पदार्थ बिस्फेनोल-ए से मुक्त होती है, वो बोतल, जिनमें वेंट या वाल्व लगे होते हैं, जो कि दूध पीते समय अन्दर ली जाने वाली हवा को कम करते है का ही उपयोग करे | इससे बच्चे को पेट दर्द नहीं होता है |
7) वैज्ञानिकों के मुताबिक लंबे समय तक बोतल से दूध पीने से बच्चों के शरीर में लौह यानी आयरन तत्व की कमी हो जाती है।इसलिए बच्चों को 15 महीने की आयु तक बोतल की आदत छु़ड़वा देनी चाहिए।